Hindi Poem: चलते रहो

Last Updated

“चलते रहो

क्यों हो व्याकुल?

क्या पराजय का भय है?

नहीं?

तो फिर क्यों रुक गए

बताओ तो ज़रा?

संभवतः तुम भयभीत हो

कि कहीं ये दुर्घटना न घट जाये

तुम्हे छोड़ मार्ग में

वो प्रिय मित्र तुम्हारा पीछे न हट जाये

ऐसे विचारों से तुम इस मार्ग पर नहीं बढ़ पाओगे

जीवन के ऊंचे-ऊंचे शिखर भला तुम कैसे चढ़ पाओगे?

मेरी मानो तो ऐसे विचार छोड़ दो

परिचित और अपरिचित दोनों से मुख मोड़ लो

तुम्हारा जीवन नाला बनने जा रहा है

अब भी समय है, उसे सागर की ओर मोड़ दो!”

Read more:

Hindi Poem: जब तक क्षितिज न मिल जाये

Hindi Poem on Persistence: चल चला चल

5 Quick Breakfast Recipes for College Students
Hindi Poem: जब तक क्षितिज न मिल जाये

Avdhesh Tondak is a blogger on a mission: to cut the crap and give the readers what they want (and deserve)—personal development articles in plain English. Connect with him on facebook and twitter.