Hindi Poem on Persistence: चल चला चल

Last Updated

Persistence is what you need when there’s darkness all around you. Things will get better if you could persist a little more. Here’s a Hindi poem on persistence to inspire you. Keep going even when you can’t find a reason, and remember – never give up. Only people who keep on persisting and keep moving can get ahead in life.

“माटी की इस देह का लेकर सहारा

संशय, उलझन, भ्रम-सब को कर किनारा

गर्व से अनजान पथ पर तू बढ़ा चल

पगले चल चला चल।।

जीवन बीता जा रहा है

सब कुछ रीता जा रहा है

पुरातन पात झर गए हैं

फूल टहनी से छिटककर गिर गए हैं

नित नवीन काव्य का सृजन कर-चला चल

पगले चल चला चल।।

साँझ गहराने को है

कालिमा छाने को है

झींगुर स्वर करने लगे हैं

पंछी कुछ डरने लगे हैं

पर तू न घबरा रात से – बस बढ़ा चल

चल चला चल

पगले चल चला चल।।”

-by Avdhesh Tondak

Hindi Poem on Courage: चुनौती
Discontented? You're on the Right Path

Avdhesh Tondak is a blogger and voice actor. He writes for students, professionals, and seekers. Subscribe to receive his new articles by email.