Hindi Poem on Winter Season: माँ चौके में

Last Updated

Hindi Poem on Winter Season? You need it for your kid’s holidays homework, right?

Well, I have one:

“माँ चौके में चाय बनाती, सी सी करती जाती है, बहन ठिठुरती और सिकुड़ती स्वेटर बुनती जाती है।

सोनू कैसे जाये नहाने, दांत बज रहे कट-कट-कट, मोनू दादी की गोदी में छुपकर जा बैठा झटपट।।

कोट और स्वेटर पहने हूँ, फिर भी ठण्ड न जाती है, बाहर जाकर कैसे खेलूं वहां न कोई साथी है।

सर्दी आई-सर्दी आई, कांप उठे हैं नर-नारी, अच्छा हम भी चलें, करें अब चाय-पान की तैयारी।।”

This poem was in my 1st standard Hindi textbook. And I still remember it because it’s kind of cute. Can’t remember who wrote this, though. You know who did? Well, enlighten me 🙂

Hindi Poem to Lift Your Spirits - विश्वास-दीप
5 Tips for Girls to Have Safe Travel

Avdhesh Tondak is a blogger on a mission: to cut the crap and give the readers what they want (and deserve)—personal development articles in plain English. Connect with him on facebook and twitter.